पाठ्यक्रम

क्रमांक

 पाठ्यक्रम का नाम

पात्रता की शर्त

प्रवेश की विधा

पाठ्यक्रम की कालावधि

विषय

1.

पी यू सी 1

(बौद्ध दर्शन)

 

8वीं उत्तीर्ण

प्रवेश के लिए अभिवृत्ति परीक्षा/चयन गुणवत्ता के आधार पर

कुल सीटें 37

4 वर्ष

1. भारतीय बौद्ध दर्शन

2. तिब्बती बौद्ध दर्शन

3. संस्कृत भाषा

4. तिब्बती भाषा

5. अँग्रेजी/हिंदी,

6. वैकल्पिक विषय

2.

पी यू सी 3

(तिब्बती ज्योतिष)

 

8वीं उत्तीर्ण

प्रवेश परीक्षा

कुल सीटें 7

4 वर्ष

1. वैद्यक तथा ज्योतिष

   का इतिहास

2. तिब्बती वैद्यक

3. भारतीय बौद्ध दर्शन

4. संस्कृत भाषा

5. तिब्बती भाषा

6. अँग्रेजी/हिंदी

3.

पी यू सी (तिब्बती शिल्प-विद्या)

10वीं उत्तीर्ण

प्रवेश परीक्षा

कुल सीटें 14

2 वर्ष

1.चित्र-कला तथा काष्ठ-कला

2. कला का इतिहास तथा
      दर्शन

3. बौद्ध दर्शन

4. तिब्बती साहित्य

5.  अँग्रेजी/हिंदी भाषा

4.

पी यू सी (तिब्बती वैद्यक)

8वीं उत्तीर्ण

प्रवेश परीक्षा

कुल सीटें 7

4 वर्ष

1. तिब्बती वैद्यक तथा ज्योतिष का इतिहास
2. मूलभूत तिब्बती वैद्यक
3. भारतीय बौद्धदर्शन

4. संस्कृत भाषा

5. तिब्बती भाषा

6.  अँग्रेजी/हिंदी

5.

स्नातक पूर्व

(बौद्धदर्शन) शास्त्री

उ.म. द्वितीय वर्ष (कें.ति.अ. विश्वविद्यालय से)

उ.म. 2 उत्तीर्ण होने के बाद सीधा प्रवेश

उ.म. 2 उत्तीर्ण उम्मीदवार

3 वर्ष

  1. भारतीय बौद्ध दर्शन 1
  2. भारतीय बौद्ध दर्शन 2
  3. तिब्बती बौद्ध दर्शन
  4. संस्कृत भाषा
  5. तिब्बती भाषा
  6. अँग्रेजी/हिंदी
  7. वैकल्पिक विषय 2

6.

स्नातक पूर्व (तिब्बती ज्योतिष शास्त्री)

ज्योतिष उ.म. 2 (कें.ति.अ.

विश्वविद्यालय)

 

उ.म. 2 उत्तीर्ण होने के बाद सीधा प्रवेश/ ज्यो. उ.म. 2 उत्तीर्ण उम्मीदवार

3वर्ष

3 वर्ष

  1. भोट ज्योतिष
  2. भारतीय ज्योतिष
  3. तिब्बती भाषा
  4. अँग्रेजी/हिंदी भाषा
  5. वैकल्पिक विषय

7.

स्नातक पूर्व (शिल्प-विद्या) शास्त्री

शि.वि.उ.म.2 उत्तीर्ण (कें.ति.अ.विश्वविद्यालय से)

शि.वि. उ.म. 2 उत्तीर्ण होने के बाद सीधा प्रवेश

शि.वि. उ.म. 2 उत्तीर्ण उम्मीदवार

3 वर्ष

 

8.

स्नातकपूर्व/ (बी.टी.एम्.एंस्.)

भोट चिकित्सा

प्रवेश परीक्षा के बाद

बी.टी.एम्.एस्. प्रवेश

41/2  वर्ष

भोट शरीर रचना शास्त्र

9.

पीएच.डी. विद्यावारिधि

एम.फिल. उत्तीर्ण (कें.ति.अ.विश्वविद्यालय से)

सीधा प्रवेश

 

3 वर्ष

 

 

  1. पी यू सी : पूर्व मध्यमा (2 वर्ष शिक्षण-क्रम) तथा उत्तर मध्यमा (2 वर्ष शिक्षण-क्रम)
  2. वैकल्पिक विषय
  • राजनीति विज्ञान
  • अर्थ शास्त्र
  • एशियाई इतिहास
  • तिब्बती इतिहास
  • संस्कृत-ख वर्ग
  • पालि भाषा

   ऊपर दिये हुये विषयों में से कोई एक विषय छात्र को चयन करना होगा ।

  1. स्नातक           :  शास्त्री  (3 वर्ष शिक्षण-क्रम)
  2. स्नातकोत्तर      :  आचार्य (2 वर्ष शिक्षण-क्रम)