केन्द्रीय उच्च तिब्बती शिक्षा संस्थान में आपका स्‍वागत है।

केन्द्रीय तिब्बती अध्ययन विश्वविद्यालय, सारनाथ, देशभर में अपने ढंग का एकमेव विश्वविद्यालय है । इस विश्वविद्यालय की स्थापना 1967 में हुई । बिखरे हुए तथा भारत के हिमालयीय सीमा प्रदेशों मे रहनेवाले तथा धर्म, संस्कृति, भाषा आदि के संबंध में तिब्बत से जुड़े युवाओं को शिक्षित करने के उद्देश्य से ऐसे विश्वविद्यालय की परिकल्पना सर्वप्रथम पं. जवाहरलाल नेहरू (भारत के प्रथम प्रधानमंत्री) और परम पावन दलाई लामा के बीच हुए एक संवाद से साकार हुई ।

            'केन्द्रीय उच्च तिब्बती शिक्षा संस्थान' नाम से संबोधित यह संस्थान शुरू में सम्पूर्णानन्द संस्कृत विश्वविद्यालय की शाखा के रूप में कार्य करता था और बाद में 1977 में वह भारत सरकार के शिक्षा मंत्रालय के अधीन एक स्वशासित संगठन के रूप में उभरा ।

फोटोगैलरी

वीडियो गैलरी

Title : Post Convocation Programme: Address by Dr. Mahesh Sharmaji, Hon’ble Minister, Ministry of Culture, Government of India on 25th October, 2018
Date : 2019-01-11

वेबकास्‍ट

Title : Golden Jubilee Celebration of CIHTS
Date : 2018-01-08